Life-Style

सारा अली ख़ान किन मुश्किलों से पार पा कर बनीं अभिनेत्री


सारा ने बचपन से एक्टिंग का सपना देखा ज़रूर लेकिन 96 किलो वज़न के कारण कभी नहीं सोचा था कि वो एक्टिंग कर पाएंगी. स्कूल-कॉलेज हर जगह लोग उन्हें मोटी कहकर पुकारते थे. सारा अली ख़ान की दो फ़िल्में आने वाली हैं, ‘केदारनाथ’ और ‘सिम्बा’.
सारा कहती हैं, “वैसे तो करीना हर चीज़ बहुत अच्छे से करती हैं, लेकिन जो एक चीज़ मैं उनसे सीखना चाहती हूँ वो है बैलेंस इन लाइफ, इंशाअल्लाह एक दिन मैं ये ज़रूर सीखूंगी उनसे.”

बचपन में सारा एक किरदार की फ़ैन थीं. वो था ‘कभी ख़ुशी कभी ग़म’ में करीना कपूर का किरदार ‘पू’.सारा ने दूर-दूर तक नहीं सोचा था कि एक दिन उनकी पसंदीदा ‘पू’ उनके पापा की दूसरी बीवी बनेंगी.
बीबीसी एशिया नेटवर्क के हारून रशीद से बातचीत में सारा अली खान ने कहा, “23 साल से मैं ये सपना देख रही हूं. पर चार-पांच साल की उम्र में मैंने ठान लिया था कि एक्टिंग ही करनी है.”

बचपन से ही एक्टिंग का शौक रखने वाली सारा ने स्कूल में एडमिशन देने वाली हेडमास्टर को फ़ोन पर ही दमा दम मस्त कलंदर गाना गाकर सुनाया और मम्मी-पापा के पसंदीदा स्कूल में आसानी से एडमिशन ले लिया.
सारा कहती हैं, “कॉलेज के दूसरे साल के ख़त्म होते-होते मैंने ठान लिया था कि एक्टर ही बनना है. उस वक्त वज़न एक बड़ी प्रॉब्लम थी. लेकिन जब ठान लिया तो ठान लिया, तीसरे साल तक मैंने वज़न घटाना शुरू किया.”
सारा कहती हैं, “मैंने केदारनाथ फ़िल्म करने को हाँ तो कह दिया था, लेकिन जब शूटिंग करने पहुंची तब पता चला कि कितनी मेहनत करनी होगी. ट्रेलर में एक सीन है जहाँ मैं गंगा में डुबकी लगा रही हूँ, उस समय बहुत ठंड थी. पानी भी बहुत ज़्यादा ठंडा था, ऐसा लग रहा था जैसे जान निकल रही हो. लेकिन सेट पर काम का कभी पता ही नहीं चला, सब आसानी से हो गया. सेट से बाहर आकर पता लगता था कि तबियत ख़राब है या पैर में दर्द है, पर कैमरे के सामने ये सब कभी महसूस नहीं हुआ.”

जल्द ही सारा अली ख़ान दो फिल्मों में नज़र आएंगी, एक अभिषेक कपूर की केदारनाथ और दूसरी रोहित शेट्टी की सिम्बा,जो केदारनाथ के तीन हफ्ते बाद 28 दिसंबर को रिलीज़ होगी.

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर
और ट्विटर पर करे!

loading...
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top
Translate »